loading...

महेंद्र सिंह धोनी बहुत अच्छे कप्तान रहे हैं और अपने शांत स्वभाव के लिए जाने जाते हैं। एक भारतीय बल्लेबाज भी हुआ है जिसने आज तक धोनी से यह नहीं पूछा कि उन्हें शतक बनाने के बाद भी टीम से क्यों निकाला गया। बल्लेबाज कोई और नहीं बल्कि मनोज तिवारी हैं, जो धोनी की कप्तानी में खेले थे। यह ध्यान देने वाली बात है कि 2008 में पदार्पण करने वाले मनोज तिवारी ने 2011 में वेस्टइंडीज के खिलाफ नाबाद 104 रन बनाए थे। उन्हें अगले मैच में टीम से बाहर कर दिया गया था और वह अगले 14 मैच नहीं खेल सके थे। पुरानी बातों को याद करते हुए मनोज ने कहा कि टीम से बाहर होने के बावजूद उन्होंने धोनी से इस संबंध में कभी पूछताछ नहीं की।


मनोज तिवारी ने कहा, "मैंने कभी नहीं सोचा था कि अपने देश के लिए शतक बनाने और मैन ऑफ द मैच जीतने के बाद मैं अगले 14 मैचों के लिए बाहर हो जाऊंगा। लेकिन मैं इसका सम्मान करता हूं। कप्तान, कोच और टीम प्रबंधन के अपने विचार हैं। एक खिलाड़ी के रूप में हमें उनके फैसलों का सम्मान करना चाहिए, क्योंकि शायद यह उनकी रणनीति है। ”

मनोज तिवारी को इसके बाद 2012 में टीम में मौका मिला और उन्होंने श्रीलंका के खिलाफ मैच खेला। इसके बाद, तिवारी फिर से 2 साल के लिए बाबर बन गए। उनका करियर उतार-चढ़ाव भरा रहा है और वह अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में ज्यादा दम नहीं दिखा सके।