इंसानों का मांस खाने वाली ये प्रजाती रहती है पेड़ों पर Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

न्यूज़ डेस्क। आपको पता तो होगा ही कि इस धरती पर कई प्रकार की जनजातियां पायी जाती है। और उन सभी जातियों की अपनी अपनी अलग-अलग परम्पराएं होती हैं। और वह उनके अनुसार ही अपना जीवन यापन करती है। लेकिन आज आपको एक अनोखी जानजाति के बारे में बता रहे हैं। जिसके बारे में सुनकर आप चौंक जाएंगे। इस जनजाति को कोरोवाई जनजाति के नाम से जाना जाता है। इसकी अपनी ही परंपरा होती है और अपनी ही संस्कृति। जिसके अनुसार यह लोग अपना जीवन यापन करते हैं।


ये लोग इंडोनेशिया के पापुआ प्रांत स्थति घने जंगलों में रहते हैं। बता दें कि विश्व की यह एक मात्र जनजाति है। जिसे नरभक्षी भी कहा जाता है। साल 1974 में पहली बार यह जनजाति लोगों के सामने आई थी।  इससे पहले कोई भी इससे परिचित नहीं था। इसके बाद इस जनजाति को देखने के लिए लोग आने लगे। जिससे वेश्यावृति ने जन्म ले लिया। लेकिन साल 1999 तक इस प्रजाति ने सामान्य लोगों से नाता तोड़ लिया।

और दूर जंगलों में जाकर पड़ों पर रहने लगे। कहा जाता है कि यह लोग पेड़ पर अपने आप को बहुत सुरक्षित महसूस करते हैं।  साथ ही जंगली जानवरों का शिकार भी करते हैं। कहा जाता है कि पहले यह जनजाति इंसानों को मार भी खा जाती थी। इन लोगों मे अंधविश्वास काफी अधिक होता है। जिसके चलते यह इंसान की भी बलि दे देते हैं। हालांकि यह सब पहले होता था। लेकिन समय के साथ यह प्रजाति भी बदल गई।

लेकिन सभ्य लोगों के अत्याचारों से इस प्रजाति ने सामान्य लोगों से दूरी बना ली। और जंगल में जाकर रहने लगे। इतना ही नहीं इस प्रजाति के बारे में कहा जाता है कि यह लोग अपने देवता के प्रति सच्ची आस्था रखते हैं। जिससे इनमें अंधविश्वास भरपूर मात्रा में देखा जा सकता है। Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures