loading...

निर्भया गैंग रेप के चारों दोषियों को कुछ ही देर में फांसी दे दी जाएगी। जब जल्लाद और जेल प्रशासन मिलकर फांसी की पूरी प्रकिया को अंजाम देगा, उस समय कोई किसी से बात नहीं करता है। फांसी के वक्त लोग सिर्फ इशारों में बात करते हैं।

कैदियों को फंदा पहनाने के बाद जल्लाद जेलर को हाथ से इशारा करता है और उधर जेलर लीवर खींचने का इशारा देता है। इस दौरान जेलर के हाथ में सफेद रूमाल होता है। तय समय के हिसाब से जेलर रूमाल दिखाता है। जल्लाद लीवर खींचता है और फांसी वाला तख्‍ता हट जाता है, अपराधी फांसी पर झूल जाते हैं।

पवन जल्‍लाद एक प्रोफेशनल जल्‍लाद हैं। इनके दादा परदादा भी देश में कई फांसियों को में सहयोग कर चुके हैं। लेकिन पवन ने 4 फांसी एक साथ देकर अपने ही दादा का रिकार्ड तोड़ दिया है।

यूपी सरकार की तरफ से पवन को फांसी देने के लिए नामित करते ही वह फांसी देने के लिए मानसिक तौर पर तैयार था। मेरठ जेल में कई बार उसने फांसी की बारीकियों को परखा था और ट्रेनिंग ली थी। वह हर बार यही कहता था कि बिटिया के गुनाहगारों को एक साथ फांसी देने का उसका सपना जल्द पूरा होना चाहिए, जो शुक्रवार को हो गया।